HindiReference

Aawaz May Lipti Khamosi By Gulsher bat

  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • Paperback ‏ : ‎ 192 pages
  • ISBN-10 ‏ : ‎ 9390944007
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 978-9390944002
  • Item Weight ‏ : ‎ 192 g
  • Dimensions ‏ : ‎ 5.5 x 0.5 x 8.5 cm

Product Description – 

‘आवाज़ में लिपटी ख़ामोशी’ अपनी नौईयत की मुनफ़रिद किताब है जो पूरी – की – पूरी पेश लफ़्ज़ भी है, बायोग्राफ़ी भी है, तहसीने-फ़िक्रो-फ़न भी है और एक मुहब्बतकार का गुलज़ार जी के लिए अदबी अक़ीदत-नामा भी है। मैं इसे गुलज़ार की ज़िंदगी का तवील-तरीन दीबाचा कहूँगा, जिसे ‘गुलशेर बट’ ने एक ऐसी किताब का रूप दे दिया है जिसमें लिखा हुआ तो पढ़ा ही जा सकता है, लेकिन लिखे से ज़्यादा अनलिखा यानी बैनुस्सुतूर और पसे-अल्फ़ाज़ भी इतना कुछ है जिसे हर ज़ीहिस क़ारी बा-आसानी गुलज़ार जी से अपनी-अपनी मुहब्बत को अल्फ़ाज़ में ढलते हुए देख सकता है। ये किताब एक ऐसा कैप्सूल है जिसे निगलते ही आपके अंदर गुलज़ार की शख़्सियत और शायरी का नशा भर जाता है। बिला शुबहा गुलज़ार एक ऐसे फ़नकार हैं जिनके फ़न की ख़ुशबू सरहद के दोनों अतराफ़ में यकसाँ फैली हुई है। एक तरफ़ गुलज़ार का वतन है और दूसरी तरफ़ उनका मुल्क। गुलशेर ने इस हक़ीक़त को फ़िक्शन बना दिया है और कमाल बेसाख़्तगी से, दिल को छू लेनेवाले जज़्बात भरे, मगर तख़्लीक़ी पैराये में एक फ़नकार की ज़िंदगी के छोटे-बड़े तल्ख़-ओ-शीरीं वाक़िआत और उसकी फ़न्नी तहसीलो-तक्मील के अमल को बयान कर दिया है। मुझे तो ये किताब हक़ीक़त, फ़िक्शन, सरगुज़िश्त, फ्लैश-बैक, रिपोर्ताज, तअस्सुराती तन्क़ीद और हल्के-फुल्के ज़ाती फ़ल्सफ़े का ख़ूबसूरत इम्तिज़ाज लगती है, जिसकी आख़िरी सत्र तक पहुँचकर पढ़नेवाला सोच में पड़ जाता है कि गुलज़ार जी को ख़िराजे-तहसीन पेश किया जाये या गुलशेर को। मेरी दानिस्त में गुलशेर ने उर्दू अदब में एक नयी सिन्फ़ ही बना डाली है। – -नसीर अहमद नासिर

About the Author – 

गुलशेर की रचनात्मक शख़्सियत का रौशनतरीन पहलू उनकी शैली (style) है, जो परम्परागत हरगिज़ नहीं। गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर, पाकिस्तान में अपने स्टूडेंट होने के ज़माने में ‘रावी’ की नज़्मों का चयन और संकलन ‘शायरी तुमसे है’ के नाम से किया। पंजाब यूनिवर्सिटी, पाकिस्तान से एल. एल. बी. के दौरान 2002 में उनकी किताब ‘गुलज़ार : आवाज़ में लिपटी ख़ामोशी’ मंज़रे-आम पर आयी और उसे बेपनाह मक़बूलियत मिली; बाद में इसे उस्मान अली ने ‘Gulzar : The Speaking Silence’ के नाम से अँग्रेज़ी ज़बान में ढाला। ‘कहानी साँस लेती है’ इनकी अलग-अलग लेखन-शैली का ख़ूबसूरत नमूना है। एन्टी-करप्शन डिपार्टमेंट में डिप्टी डायरेक्टर रह चुके हैं। कुछ अर्सा कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में भी रह चुके हैं और आजकल यूनिवर्सिटी ऑफ सरगोधा, पाकिस्तान के लॉ डिपार्टमेंट में पढ़ाते हैं।इनकी संकलित-सम्पादित किताब ‘गुलज़ार : नज़्में, ग़ज़लें, गीत, त्रिवेणी’ गुलज़ार साहब को चाहनेवालों के लिए गौहरे-नायाब है। हाल ही में प्रकशित होनेवाली किताब ‘जगजीत सिंह की मधुर आवाज़ में अमर होनेवाली ग़ज़लें, नज़्में, गीत’ मौसीक़ी और उर्दू ज़बानो-अदब में रुचि रखनेवालों के लिए तोहफ़े से कम नहीं। इनकी सम्पादित किताब ‘कुल्लियाते सैयद मुबारक शाह’ आध्यात्मिक जगत में विचरण करनेवालों के लिए राहनुमा साबित हो सकती है। इनका नया शाहकार ‘गौतम को निर्वाण मिला था’ उस वृत्तान्त पर आधारित है जो थाईलैंड की वादियों में गौतम की मुहब्बत में लिखी गयी है।

Paperback Book available at-

Amazon link – https://amzn.to/3wSxzrK

EBook Available at-

Kindle- https://www.amazon.in/dp/B09518GTZ1

Google Books – https://bit.ly/3bZky7N

Kobo – https://bit.ly/3c8exFT