Drak night

Book description

कबीर का किशोर मन, प्रेम, रोमांस और सेक्स की फैंटेसियों से लबरे़ज है। कबीर की इन्हीं फैंटेसियों का कारवाँ वड़ोदरा की कस्बाई कल्पनाओं से निकलकर लंदन के महानगरीय ख़्वाबों तक पहुँचता है। लंदन के उन्मुक्त माहौल में, कबीर की कल्पनाओं को हर वो ख़ुराक हासिल है, जिसके लिए उसका मन ललकता है। इन्हीं सतरंगी ख़ुराक पर पलकर उसकी कल्पनाएँ कभी हिकमा और नेहा के प्रेम में, तो कभी टीना और लूसी के आकर्षण में ढलती हैं। मगर कबीर के लिए अपने रुपहले ख़्वाबों के हवामहल से निकलकर किशोरियों के मन और काया की भूल-भुलैया में भटकना कठिन है। यही भटकाव उसे ‘डार्क नाइट’ में ले आता है; मन की एक ऐसी अवस्था, जिसमें किसी उमंग की कोई रौशनी नहीं है। इसी अँधेरे में कबीर मिलता है, एक स्पेनिश स्ट्रिप डांसर से, जो उसका परिचय डार्क नाइट के रहस्यों से करवाती है। डार्क नाइट के रहस्यों को सुलझाते हुए ही कबीर, नारी प्रेम का संगीत छेड़ना सीखता है; और इस संगीत के सम्मोहन में जकड़ती हैं, दो सुंदरियाँ, प्रिया और माया। प्रिया और माया के आकर्षण में डोलता कबीर, उस दोराहे के जंक्शन पर पहुँचता है, जहाँ उसकी पुरानी कल्पनाएँ जीवित होना चाहती हैं। किसके प्रेम में ढलेंगी कबीर की कल्पनाएँ? किसकी दहली़ज पर जाकर रुकेगा कबीर के ख़्वाबों का कारवाँ? माया या प्रिया?

Amazon link – https://amzn.to/2l0udjB

Mark my book – https://bit.ly/2Me57tQ

About the author

संदीप नय्यर प्रशिक्षण से मैकेनिकल इंजीनियर हैं, पेशे से एक आईटी विशेषज्ञ और अपनी पसंद से एक लेखक. 1969 में रायपुर में जन्मे नय्यर ने कुछ वर्ष एक पत्रकार के रूप में भी गुजारे हैं और साप्ताहिक हिंदुस्तान में वे एक नियमित स्तंभ लिखते रहे थे. रिलायंस और रायपुर अलॉइज के साथ काम कर चुके नय्यर 2000 में ब्रिटेन चले गए और अब वे एक ब्रिटिश नागरिक हैं. संदीप नैयर ने अपने पहले उपन्यास ‘समरसिद्धा’ से ही अपनी लेखन शैली का लोहा मनवा लिया है और यह उनका दूसरा उपन्यास है.
He can be contacted through:
E-Mail: info@sandeepnayyar.com
Facebook: https://www.facebook.com/sandeep.nayyar.14